आचार्य / अभिभावकों के लिए संस्कृति ज्ञान परीक्षा -

  • विद्या भारती से सम्बद्ध विद्यालयों के आचार्य अपनी भव्य सांस्कृतिक धरोहर के विशाल ज्ञान भण्डार से समृद्ध होकर छात्र-छात्रओं के लिए ज्ञान के प्रदीप्त प्रेरणा-स्रोत बन सकें, इस उद्देश्य से आचार्यों के लिए सन् 1985-86 से इस परीक्षा का आयोजन प्रारम्भ किया गया है। इसमें सहभागिता की संख्यात्मक स्थिति निम्नानुसार है |
  • यह परीक्षा चार वर्गों में आयोजित की जाती है: प्रवेशिका, मध्यमा, उत्तमा एवं प्रज्ञा परीक्षा। हमारे सभी आचार्य सभी स्तरों की संस्कृति ज्ञान परीक्षा उत्तीर्ण कर लें- यह लक्ष्य बनायें।
  • चारों वर्गों के लिए पृथक-पृथक प्रश्नोत्तरी निर्धरित है, जो भी आचार्य बंधु उपरोक्त परीक्षाओं में सम्मिलित होना चाहें निर्धरित प्रपत्र भरकर शुल्क सहित विवरण अपने विद्यालय प्रधानाचार्य के माध्यम से परीक्षा/ कार्यालय कुरुक्षेत्र में भेजें। (संख्या विवरण एवं आवेदन पत्रक संलग्न है)

परीक्षा शुल्क -

  • प्रवेशिका, मध्यमा व उत्तमा तीनों ही वर्गों में सम्मिलित होने वाले परीक्षार्थियों का शुल्क रुपये 30.00 (तीस रुपये) प्रति परीक्षार्थी (पुस्तक तथा प्रमाण-पत्र सहित) निर्धारित किया गया है, जिसे दिनांक 31 अगस्त 2018 तक कुरुक्षेत्र कार्यालय में पहुँचना चाहिए। बैंक ड्राफ्ट / धनादेश संस्कृति ज्ञान परीक्षा के नाम से ही भेजें।
  • प्रज्ञा परीक्षा का शुल्क 100.00 (एक सौ रुपये मात्र) रहेगा। इसमें परीक्षा हेतु पाठ्य पुस्तक का मूल्य सम्मिलित है। यह परीक्षा केवल उन आचार्यों के लिए होगी जो प्रवेशिका, मध्यमा एवं उत्तमा तीनों परीक्षायें उत्तीर्ण कर चुके हैं।

img
img

परीक्षा दिनांक व जांच कार्य -

  • आचार्य संस्कृति ज्ञान परीक्षा प्रवेशिका, मध्यमा, उत्तमा तथा प्रज्ञा सभी स्तरों की 15 दिसम्बर 2018 को सम्पन्न होंगी। प्रवेशिका, मध्यमा, उत्तमा तथा प्रज्ञा परीक्षा का मूल्यांकन केन्द्रीय कार्यालय कुरुक्षेत्र में होगा, परीक्षोपरान्त ये उत्तर पुस्तिकाएं प्रधानाचार्य के पत्र के साथ वुफरुक्षेत्र कार्यालय के पते पर परीक्षा आयोजन के दिन ही अथवा आगामी कार्य दिवस को प्रेषित की जानी चाहिए। इसमें विलम्ब होने पर उत्तर पुस्तिकाओं पर विचार नहीं किया जाएगा।
  •  

परीक्षाफल -

  • केन्द्रीय कार्यालय, कुरुक्षेत्र को उत्तर पुस्तिकाएं प्राप्त होने के पश्चात् उनका मूल्यांकन करवा कर परिणाम प्रमाण पत्रों के साथ सम्बन्धित विद्यालय को भेजा जाएगा। प्रज्ञा परीक्षा में 50 प्रतिशत एवं अधिक अंक प्राप्त करने वाले आचार्य प्रशस्ति पत्र प्राप्त करने के अधिकारी होंगे। अंक सूची व प्रमाण-पत्र सम्बन्धित विद्यालय को भेज दिए जाएंगे।
  • विद्यालय अथवा प्रान्तीय समिति द्वारा 80 प्रतिशत या अधिक अंक लेने वाले आचार्यों को समारोहपूर्वक सम्मानित किया जाए। नगर/जिले में स्थित एकाधिक विद्यालय मिलकर भी बड़े स्तर पर समारोह आयोजित कर सकते हैं ताकि अन्य विद्यालयों को भी इसकी जानकारी तथा प्रेरणा मिल सके।

संगणक फार्म भरने हेतु अति-आवश्यक

  • 1. फार्म में मोबाइल क्रमांक तथा पिनकोड (आवश्यकता हो तो स्थानीय डाकघर से पूछ कर) भरना अनिवार्य है। इसके अभाव में साहित्य प्रेषित करना संभव नहीं होगा।
  • 2. ट्रांसपोर्ट से साहित्य प्रेषित करने हेतु पैन कार्ड/ जी.एस.टी.क्रमांक / तथा प्रधानाचार्य जी के आधार कार्ड की स्पष्ट छायाप्रति अवश्य संलग्न करें।

आचार्य प्रज्ञा परीक्षा -

  • 1. यह परीक्षा उन सभी आचार्य बंधु/भगिनी के लिए है जिन्होंने प्रवेशिका, मध्यमा एवं उत्तमा परीक्षा उत्तीर्ण कर ली है।
  • 2. यह परीक्षा वस्तुनिष्ठ, संक्षिप्त उत्तरात्मक एवं वर्णनात्मक उत्तर वाले प्रश्नों के रूप में होगी।
  • वस्तुनिष्ठ प्रश्न 30 अंक
  • संक्षिप्त उत्तर वाले प्रश्न 50 अंक
  • वर्णनात्मक 20 अंक
  • 3. पाठ्यक्रम (2018-19 के लिए) -
    • 1.आर्ष साहित्य का संक्षिप्त परिचय - 60.00 रुपये
    • प्रकाशक - विद्या भारती संस्कृति शिक्षा संस्थान, कुरुक्षेत्र
    • 2. भगिनी निवेदिता - 15.00 रुपये
  • प्रकाशक एवं पुस्तक प्राप्ति स्थान - विद्या भारती संस्कृति शिक्षा संस्थान, संस्कृति भवन, लाजपतराय मार्ग ;सलारपुर रोड, वुफरुक्षेत्र
  • 4. परीक्षा शुल्क रूपये 100.00 है जिसमें उपर्युक्त पुस्तकों का मूल्य सम्मिलित है।

img